Posts

विद्या भारती की शिशुवाटिका संकल्पना

Image
जिस प्रकार 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने केपश्चात महाविद्यालय अध्ययन का स्थान हैउसी प्रकार प्राथमिक से पूर्व शिशुवाटिका 3-5 वर्ष तक के बच्चों के लिए अध्ययन कस्थान है । शासकीय भाषा में इसे पूर्वप्राथमिक तथा सामान्य भाषा में इसे नर्सरीस्कूल या मोंटेसरी आदि स्कूल कहते हैं ।परन्तु विद्या भारती ने इसे शिशुवाटिका कानाम दिया है । जन्म से 5 वर्ष तक की आयुकी अवस्था को शिशु अवस्था कहा जाता है ।इस अवस्था के बालक को शिशु नाम सेसम्बोधित करते हैं ।


वाटिका का अर्थ हैआनन्द, प्रमोदयुक्त विहार का स्थान ।शिशुवाटिका एक विद्यालय होने के उपरांतएक शिशु शिक्षा पद्धति है । शिशु शिक्षाकेवल मनोरंजन का विषय नहीं है और न हीऔपचारिक शिक्षा का विषय  है । यहसंस्कार का क्षेत्र है, जीवन विकास की नींवहै, सम्पूर्ण जीवन यात्रा का महत्वपूर्ण खण्डहै । अतः हमें इस विषय पर गंभीरता सेविचार करना चाहिए । भारत में पांच वर्ष कीआयु तक के बालक को विद्यालय में भेजनेकी प्रथा नहीं थी परंतु आज की भाग-दौड़

संस्कार केंद्र की एक भावनात्मक घटना

गीता शिक्षा सदन महम के शक्ति संतोष संस्कार केंद्र में जाना हुआ।श्रीमती वीना परूथी जी इस केंद्र की संचालिका हैं। एक लड़की दुकान से 5-5 रूपये के 2 बिस्कुट के पैकेट लाई। मैंने पूछा आपकी दीदी ने फिजूल खर्च के लिए मना किया था तो ये क्यों लाए?बिस्कुट लाने वाली लड़की ने कहा कि अपने लिए नही लाई मैं तो बहन नेहा के लिए लाई हूँ। मैंने नेहा से पूछा कि घर से पैसे क्यों लाए हो? उसने कहा मैं नही लाई। यही लड़की लाई है मेरे लिए। ऐसा कह कर लड़की रोने लगी। मैंने प्यार से उसे अपने पास बिठा कर पूछा तो उसने संयत होकर कहा कि मैं सरकारी स्कूल में पढ़ती हूँ। हम 2 बहनें व 2 भाई है। बड़ा भाई पिता जी के साथ मजदूरी करता है। छोटा कक्षा 9 में पढता है। माँ घर पर ही रहती है। एक छोटी बहन है वह भी संस्कार केंद्र पर आती है। माँ का व्यवहार मेरे प्रति ठीक नहीं है।ये घटना सुन शेष बच्चे भी सहमे हुए लग रहे थे। मैंने बच्चों से पूछा तो उन्होंने बताया कि यह रोज भूखी आती है। आज नेहा ने सुबह थोड़े से बासी चावल पानी में घोलकर खाए थे तो भी माँ ने मारा। इसलिए मैं इसके लिए बिस्कुट लाई हूँ। इतने में संस्कार केंद्र के भैया लोकेश आए और एक टिफ़ि…

Global Trends in Education of 21st Century - Challenges and Approach

Here are the tips for the above said topic penned by Dr.D. Ramakrishana Rao to have an education system which pertains to the requirement in the present era.
India is poised to become a global leader and super power as per the opinion and prediction of experts and analysts. At this critical juncture, Bharat has to put in its best possible efforts to become a global competitor in the field of education also. Without following and tracing the latest trends in global education arena. Our nation cannot transform or metamorphose into a global player maintaining world class standards which are very much essential for ensuring equity first, acceptance for ensuring equity first acceptance next and efficiency ultimate.
Our specialty by following trends. Leading countries with their specialties, priorities, nature, character and needs protected, have established institution of global standards by mapping the latest trends in the world. Chinese concentration on vocational educational with a big sco…